शुक्रवार, 23 नवंबर 2012

कुछ होता ऐसा


क्या सब कुछ निजी होता है,
कुछ होता ऐसा भी
जो सब का हो
हवा सबके लिए होती है, 
कुदरत का पानी, रौशनी सूरज की, गहरी रात के तारे 
सुख और दुःख 
कितना अच्छा होता 
अगर खेत सब के होते,  अनाज़ से रोटी और मिलता हर हाथ को काम 
गाँव के चरागाह और पुरखों के ज्ञान - सा सबका
सवेरा  
होती है जैसे सबकी 
शामलात 
दुनिया शामलात होती तो 
क्या होता 
नहीं होता बहुत कुछ 
निश्चित ही इतिहास नहीं
इतिहास तो कभी नहीं |

1 टिप्पणी:

  1. प्रियवर,


    हम हिन्दी फोरम्स में एक ऎसी सबसे बड़ी कम्युनिटी हैं, जहां सामाजिक सरोकार, साहित्यिक, राजनीतिक और वैचारिक प्रतिबद्धता पर खुला विचार-विमर्श होता है। आप जैसे/जैसी प्रबुद्ध ब्लॉग संचालक को हम इसे ज्वाइन करने का हार्दिक निमंत्रण दे रहे हैं। निश्चय ही इसमें हमारा स्वार्थ यह है कि हमारे यहां प्रविष्ठियों की संख्या, स्तर और गुणवत्ता और बेहतर बने और हमें आप जैसे श्रेष्ठ रचनाकार का सान्निध्य मिले, साथ ही हम आपको अपने ब्लॉग का प्रचार करने और उसे हमारा एक बृहद समुदाय उपलब्ध कराने का सुअवसर दे रहे हैं, ताकि आपके ब्लॉग को एक बड़ा और नियमित प्रबुद्ध पाठक समुदाय मिले । निश्चय ही फोरम के कुछ नियम हैं, जिनके अनुसार आप फोरम पर वाह्य लिंक नहीं दे सकते, लेकिन ब्लॉगर्स के लिए हमने इसमें यह छूट दी है कि वे अपने ब्लॉग का लिंक अपने हस्ताक्षर में दे सकते हैं। आपको इस विशाल और श्रेष्ठ पाठक समुदाय को खुद से जोड़ते हुए देख कर हमें हार्दिक प्रसन्नता होगी। धन्यवाद।


    फोरम की विजिट के लिए कृपया निम्न लिंक का उपयोग करें।


    http://myhindiforum.com/


    उत्तर देंहटाएं