मंगलवार, 25 अगस्त 2009

कितना साफ़ ..

पिघलते अंधेरे के पार
गहराई चांदी की रेखा पर
टिके ख्वाब में
बची- खुची पीड़ा तक
या फ़िर
खाली कैनवास में
छिपे पहाडो पर
उगी घास ,

अटक जाता
जहाँ
सूर्य
कभी कभी
कितना साफ़ ।

2 टिप्‍पणियां:

  1. really you have a strong talaent, jaha dunia, english k chakar me padi hai, me bhi waha tum hindi ko jo ijat de rahe ho, uski kadr hai, whenever i am coming in jaipur deffinetly want to meet you, thanks,
    sharad bhardwaj

    उत्तर देंहटाएं