सोमवार, 12 अक्तूबर 2009

अकाम अवस्था में

चुपके से
खबर लेता
शुभ लक्षणों को देख
अपनी ही
आँखों का स्पर्श करता है
क्या
आसान होगा
अनंत काल तक
अजनबी धुरी के
सहारे चलना
सीधे-सीधे देखना
कहीं कुछ भी
अनैतिक नहीं
शब्दों के धोकों के साथ
पकडे जाने का डर
आखिर
विधियों के सहारे
कैसे जिया जा सकता
और  
कैसे पाया जा सकता
उस अकाम अवस्था में

महानिर्वाण

2 टिप्‍पणियां:

  1. Bhai Amit kalla.
    Nameskar,
    Aaj hi Aap ki payri si mulyamsi.mithi or nirbhik si kavita pdhi.
    Sabhi kavita ek sendesh deti h.meri dua h Aap ka yeh sendesh dur-dur tek jaye.subhkamnyo k sath Aap ko kavityo k liye sadhu-bad.
    NARESH MEHAN

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत अच्छा लिखा है . आजकल ऐसे सशक्त भाषा कम ही पढने को मिलती है. बहुत बहुत बधाई अमित. आप जोधपुर निवासी है क्या?

    उत्तर देंहटाएं